A Science Called Hinduism

Click here to edit subtitle

News

Speed Of Light in Vedas

Posted by dimodi on January 17, 2013 at 4:50 PM Comments comments (104)

The most well-known source of light is the Sun, or Surya Dev in Hinduism. Suryadev has been worshiped in India since time immemorial following the traditional way of respecting and worshipping important forms of nature. Suryadev is a part of many festivals, including Pongal or Makar Sankranti, Chattha Puja, etc. The Surya Namaskara is a complete exercise procedure that is part of the daily-morning routine of many Indian homes.

 

It is a well-known fact that light travels at a phenomenal speed of 3 x 10^8 metres/sec. This value is etched into the memory of students in their early years in school and this value of the Speed of Light was established by the experiment conducted by Michelson and Morley, celebrated American Physicists in the 19th Century.

 

But did you know that the first yet the most perfect and exact quantitative estimate of the speed of light is seen in Indian vedic scholar Sayana’s commentary on the Rigveda back in the 14th Century AD. It says sun light travels 2202 Yojanas in a half Nimesa.”

 

The below shloka is part of the Rig Veda:

 

which means

 

“Swift and all beautiful art thou, O Surya (Surya=Sun), maker of the light, Illuming all the radiant realm.”

 

Saint Sayanacharya who was a minister in the court of Bukka of the great Vijayanagar Empire of Karnataka in South India (in early 14th century) after reading the Rig Veda, gave the following comment:

The above translates into:

 

"Also it is to be noted that the Light due to the Sun travels 2202 Yojanas in half a Nimesha"

 

Now for the calculation, Converting the units used in ancient India to those used presently :

 

In the vedas Yojana is a unit of distance and Nimisha is a unit of time.

 

Yojana:-

Yojana is an ancient unit of length. Arthasastra defines it as being equal to 8,000 dhanus, which is equivalent to 9 miles. A nimesa is an ancient unit of time that is equal to 16/75 seconds.

 

Thus 2,202 yojanas in half a nimesa is equal to 185,794 miles per second after conversion. yojana is a yoking or harnessing, that which is yoked or harnessed, a team or vehicle, or a course or path.

 

Yojana is a stage or the distance traversed in one harnessing or without unyoking.1 yojana is said to comprise either 4 or 8 krosha (a cry or shout, or the range of the voice in calling); and 1 krosha (or goruta ~ as far as a cow’s lowing may be heard, or a bull’s roar) may represent either 1000 or 2000 daNDa (a rod or staff).

 

Sound radiates in all directions, so perhaps there is some confusion in regarding a krosha either as the radius of travel in one direction or as the full diameter of travel.

 

Man is the traditional measure of all things, and 1 danda represents 1 pauruSa (a man’s length) which equals 1 dhanvantara (bow-string) or dhanu (bow).1 yojana measures either 4,000 or (more likely) 8,000 dhanus.

 

Assuming that 1 paurusha is 6 ft long, then 1 yojana must represent a distance of about 14.6 km (or about 9 miles, as suggested by Monier-Williams).A full range of self-consistent units was anciently devised from the proportions of man’s own frame, although their exact conversion into modern units is unclear.

 

Nimesha: -

 

Nimesa means shutting the eye or winking, and as a measure of time it is a wink of the eye or a moment.Kautilya’s Arthashastra (c.320 BC) defines 1 nimesha as 1/360,000th of a day and night ~ i.e. 0.24 seconds.

 

2,202 yojanas in half a nimesha.Given that 1 yojana is between 14.6 and 16.4 km, 2,202 yojanas must represent between 32,149 and 36,113 km. Half a nimesha is 0.12 seconds.

 

Sayana thus gives the speed of light as between 267,910 and 300,940 km/sec ~ the currently

accepted value for the speed of light being 299,792 km/sec.

 

Assuming that the true speed of light was actually known to Sayana, who presented 2,202 yojanas in half a nimesha, as a verity; and accepting Kautilya’s value for nimesha; then a perfect yojana would be exactly 16,337.4636 m and a perfect paurusha or danda exactly 2.0422 m in length. And (assuming 108 digits per danda) then 1 angula = 1.89 cm, 1 dhanurgraha = 7.56 cm, 1 dhanurmushti = 15.13 cm, 1 vitasti = 22.69 cm, and 1 hasta (cubit) = 51.05 cm.

 

All discussion of Sayana’s comment has assumed that one yojana is about 14.6 km, and this is based on the western ideal of a 6 ft man. The ancient sacred Egyptian cubit measured 28 angulas or 52.92 cm; and the ancient sacred Babylonian cubit measured 51.03 cm ~ i.e. 27 angulas ~ and this cubit was well known in ancient India. There are 32,000 hasta or cubits in a yojana; and if the Sumerian sacred cubit is assumed, then one yojana is actually 16.33 km.

 

Therefore, 2,202 yojanas measures 35,958 km, and the speed of light is properly calculated to be 299,648 km/sec ~ and western science did not match the precision of Sayana’s estimate until 1907 !

 

It must also be noted that Sayanacharya was only commenting on the Rig Vedic text. It is hence practically inferable that earlier interpretations and findings existed, but might have been lost or could not be passed any further till present time, again pushing the date of discovery of speed of light further backwards on the historical timeline.

 

Thus, our Ancient Vedic Indians had established the Speed of Light much before scientists in other parts of the world ! This again proves the Scientific knowledge of Ancient India. Very Enlightening, isn't it?

Our Glorious Scientists

Posted by dimodi on December 17, 2012 at 4:50 AM Comments comments (0)

In our Endeavour to unleash the science in Hinduism, Now we are going to introduce our own ancestors and their great and rich contribution towards scientific development in India to enable India to reach its Pinnacle….

“The Golden Bird” or “Sone Ki Chidiya”-

Dont Miss this Incredible and most rare Compilation of Facts about these great People.

Do share and Like,Tweet, Google Plus One so that everyone gets to know about these incredible Personalities and their Unparallelable Contribution towards making of World as we see Today.

ARYABHATT (476 CE) MASTER ASTRONOMER AND MATHEMATICIAN

Born in 476 CE in Kusumpur ( Bihar ), Aryabhatt's intellectual brilliance remapped the boundaries of mathematics and astronomy. In 499 CE, at the age of 23, he wrote a text on astronomy and an unparallel treatise on mathematics called 'Aryabhatiyam.' He formulated the process of calculating the motion of planets and the time of eclipses. Aryabhatt was the first to proclaim that the earth is round, it rotates on its axis, orbits the sun and is suspended in space - 1000 years before Copernicus published his heliocentric theory. He is also acknowledged for calculating p (Pi) to four decimal places: 3.1416 and the sine table in trigonometry. Centuries later, in 825 CE, the Arab mathematician, Mohammed Ibna Musa credited the value of Pi to the Indians, 'This value has been given by the Hindus.' And above all, his most spectacular contribution was the concept of zero without which modern computer technology would have been non-existent. Aryabhatt was a colossus in the field of mathematics.

BHASKARACHARYA II (1114-1183 CE) GENIUS IN ALGEBRA

Born in the obscure village of Vijjadit (Jalgaon) in Maharastra, Bhaskaracharya' s work in Algebra, Arithmetic and Geometry catapulted him to fame and immortality. His renowned mathematical works called 'Lilavati' and 'Bijaganita' are considered to be unparalled and a memorial to his profound intelligence. Its translation in several languages of the world bear testimony to its eminence. In his treatise ' Siddhant Shiromani ' he writes on planetary positions, eclipses, cosmography, mathematical techniques and astronomical equipment. In the ' Surya Siddhant ' he makes a note on the force of gravity: 'Objects fall on earth due to a force of attraction by the earth. Therefore, the earth, planets, constellations, moon, and sun are held in orbit due to this attraction.' Bhaskaracharya was the first to discover gravity, 500 years before Sir Isaac Newton . He was the champion among mathematicians of ancient and medieval India . His works fired the imagination of Persian and European scholars, who through research on his works earned fame and popularity.  

ACHARYA KANAD (600 BCE) FOUNDER OF ATOMIC THEORY

As the founder of 'Vaisheshik Darshan'- one of six principal philosophies of India - Acharya Kanad was a genius in philosophy. He is believed to have been born in Prabhas Kshetra near Dwarika in Gujarat . He was the pioneer expounder of realism, law of causation and the atomic theory. He has classified all the objects of creation into nine elements, namely: earth, water, light, wind, ether, time, space, mind and soul. He says, 'Every object of creation is made of atoms which in turn connect with each other to form molecules.' His statement ushered in the Atomic Theory for the first time ever in the world, nearly 2500 years before John Dalton . Kanad has also described the dimension and motion of atoms and their chemical reactions with each other... The eminent historian, T.N. Colebrook , has said, 'Compared to the scientists of Europe , Kanad and other Indian scientists were the global masters of this field.'

NAGARJUNA (100 CE) WIZARD OF CHEMICAL SCIENCE

He was an extraordinary wizard of science born in the nondescript village of Baluka in Madhya Pradesh . His dedicated research for twelve years produced maiden discoveries and inventions in the faculties of chemistry and metallurgy. Textual masterpieces like ' Ras Ratnakar ,' 'Rashrudaya' and 'Rasendramangal' are his renowned contributions to the science of chemistry. Where the medieval alchemists of England failed, Nagarjuna had discovered the alchemy of transmuting base metals into gold. As the author of medical books like 'Arogyamanjari' and 'Yogasar,' he also made significant contributions to the field of curative medicine. Because of his profound scholarliness and versatile knowledge, he was appointed as Chancellor of the famous University of Nalanda . Nagarjuna's milestone discoveries impress and astonish the scientists of today.

ACHARYA CHARAK (600 BCE) FATHER OF MEDICINE

Acharya Charak has been crowned as the Father of Medicine. His renowned work, the ' Charak Samhita ', is considered as an encyclopedia of Ayurveda. His principles, diagnosis, and cures retain their potency and truth even after a couple of millennia. When the science of anatomy was confused with different theories in Europe, Acharya Charak revealed through his innate genius and enquiries the facts on human anatomy, embryology, pharmacology, blood circulation and diseases like diabetes, tuberculosis, heart disease, etc. In the ' Charak Samhita ' he has described the medicinal qualities and functions of 100,000 herbal plants. He has emphasized the influence of diet and activity on mind and body. He has proved the correlation of spirituality and physical health contributed greatly to diagnostic and curative sciences. He has also prescribed and ethical charter for medical practitioners two centuries prior to the Hippocratic oath. Through his genius and intuition, Acharya Charak made landmark contributions to Ayurveda. He forever remains etched in the annals of history as one of the greatest and noblest of rishi-scientists.

ACHARYA SUSHRUT (600 BCE) FATHER OF PLASTIC SURGERY

A genius who has been glowingly recognized in the annals of medical science. Born to sage Vishwamitra, Acharya Sudhrut details the first ever surgery procedures in ' Sushrut Samhita ,' a unique encyclopedia of surgery. He is venerated as the father of plastic surgery and the science of anesthesia. When surgery was in its infancy in Europe , Sushrut was performing Rhinoplasty (restoration of a damaged nose) and other challenging operations. In the ' Sushrut Samhita ,' he prescribes treatment for twelve types of fractures and six types of dislocations. His details on human embryology are simply amazing. Sushrut used 125 types of surgical instruments including scalpels, lancets, needles, Cathers and rectal speculums; mostly designed from the jaws of animals and birds. He has also described a number of stitching methods; the use of horse's hair as thread and fibers of bark. In the ' Sushrut Samhita ,' and fibers of bark. In the ' Sushrut Samhita ,' he details 300 types of operations. The ancient Indians were the pioneers in amputation, caesarian and cranial surgeries. Acharya Sushrut was a giant in the arena of medical science.

VARAHAMIHIR (499-587 CE) EMINENT ASTROLOGER AND ASTRONOMERA

Renowned astrologer and astronomer who was honored with a special decoration and status as one of the nine gems in the court of King Vikramaditya in Avanti ( Ujjain ). Varahamihir' s book 'panchsiddhant' holds a prominent place in the realm of astronomy. He notes that the moon and planets are lustrous not because of their own light but due to sunlight. In the ' Bruhad Samhita ' and ' Bruhad Jatak ,' he has revealed his discoveries in the domains of geography, constellation, science, botany and animal science. In his treatise on botanical science, Varamihir presents cures for various diseases afflicting plants and trees. The rishi-scientist survives through his unique contributions to the science of astrology and astronomy.

ACHARYA PATANJALI (200 BCE) FATHER OF YOGA

The Science of Yoga is one of several unique contributions of India to the world. It seeks to discover and realize the ultimate Reality through yogic practices. Acharya Patanjali , the founder, hailed from the district of Gonda (Ganara) in Uttar Pradesh . He prescribed the control of prana (life breath) as the means to control the body, mind and soul. This subsequently rewards one with good health and inner happiness. Acharya Patanjali 's 84 yogic postures effectively enhance the efficiency of the respiratory, circulatory, nervous, digestive and endocrine systems and many other organs of the body. Yoga has eight limbs where Acharya Patanjali shows the attainment of the ultimate bliss of God in samadhi through the disciplines of: yam, niyam, asan, pranayam, pratyahar, dhyan and dharna. The Science of Yoga has gained popularity because of its scientific approach and benefits. Yoga also holds the honored place as one of six philosophies in the Indian philosophical system. Acharya Patanjali will forever be remembered and revered as a pioneer in the science of self-discipline, happiness and self-realization.

ACHARYA BHARADWAJ (800 BCE) PIONEER OF AVIATION TECHNOLOGY

Acharya Bharadwaj had a hermitage in the holy city of Prayag and was an ordent apostle of Ayurveda and mechanical sciences. He authored the ' Yantra Sarvasva ' which includes astonishing and outstanding discoveries in aviation science, space science and flying machines. He has described three categories of flying machines: 1.) One that flies on earth from one place to another. 2.) One that travels from one planet to another. 3.) And One that travels from one universe to another. His designs and descriptions have impressed and amazed aviation engineers of today. His brilliance in aviation technology is further reflected through techniques described by him: 1.) Profound Secret: The technique to make a flying machine invisible through the application of sunlight and wind force. 2.) Living Secret: The technique to make an invisible space machine visible through the application of electrical force. 3.) Secret of Eavesdropping: The technique to listen to a conversation in another plane. 4.) Visual Secrets: The technique to see what's happening inside another plane. Through his innovative and brilliant discoveries, Acharya Bharadwaj has been recognized as the pioneer of aviation technology.

ACHARYA KAPIL (3000 BCE) FATHER OF COSMOLOGY

Celebrated as the founder of Sankhya philosophy, Acharya Kapil is believed to have been born in 3000 BCE to the illustrious sage Kardam and Devhuti. He gifted the world with the Sankhya School of Thought.. His pioneering work threw light on the nature and principles of the ultimate Soul (Purusha), primal matter (Prakruti) and creation. His concept of transformation of energy and profound commentaries on atma, non-atma and the subtle elements of the cosmos places him in an elite class of master achievers - incomparable to the discoveries of other cosmologists. On his assertion that Prakruti, with the inspiration of Purusha, is the mother of cosmic creation and all energies, he contributed a new chapter in the science of cosmology. Because of his extrasensory observations and revelations on the secrets of creation, he is recognized and saluted as the Father of Cosmology. Celebrated as the founder of Sankhya philosophy, Acharya Kapil is believed to have been born in 3000 BCE to the illustrious sage Kardam and Devhuti. He gifted the world with the Sankhya School of Thought.. His pioneering work threw light on the nature and principles of the ultimate Soul (Purusha), primal matter (Prakruti) and creation. His concept of transformation of energy and profound commentaries on atma, non-atma and the subtle elements of the cosmos places him in an elite class of master achievers - incomparable to the discoveries of other cosmologists. On his assertion that Prakruti, with the inspiration of Purusha, is the mother of cosmic creation and all energies, he contributed a new chapter in the science of cosmology. Because of his extrasensory observations and revelations on the secrets of creation, he is recognized and saluted as the Father of Cosmology.

Ancient Aeronautics in Vedas

Posted by dimodi on October 26, 2012 at 8:10 AM Comments comments (3)

 

The ancient vimanas described in the Vedic and Puranic literature of India are so fabulous in their capabilities and construction, one might, with good reason, wonder if such things were actualities, especially those in particular which seem to savor of daiva (myth). However, good evidence does exist indicating that more modest versions were actually built in ancient times by the aeronautical engineers of India, Mesopotamia, and a few other places. Especially is this true when details of construction, materials used, and theory of operation are given. Propulsion systems are addressed in a deliberately obscure fashion.

 

A manuscript, composed in Sanskrit by King Bhoja in the 11th Century A.D., deals with techniques of warfare, and in particular with certain types of war machines. The work is called Samarangana Sutradhara, or "Battlefield Commander"(sometimes abbreviated "the Samar"), and the whole of chapter XXXI is devoted to the construction and operation of several kinds of aircraft having various methods of propulsion.

 

King Bhoja, who used the Sanskrit term yantra more often than the more familiar vimana, claims his knowledge was based on Hindu manuscripts which were ancient even in his time. Some of the techniques of manufacture described therein have been in use by British and American aircraft companies since World War I, and have been found to be sound aeronautical principles even though described nearly a thousand years earlier in this old Sanskrit work. The Sanskrit term vimana is used only once in the following passages, in spite of the proliferation of the term in some English translations I have seen.

 

In looking over the complete text, it is perfectly clear that several types of aerial machines are being described in some detail. Those described below are limited to the atmosphere; yet some of these machines are said to be capable of flying into the Suryamandala (Solar sphere), and others even of interstellar travel i.e., the Naksatra mandala (stellar sphere). Below is my translation of the 11th century Sanskrit text.

 

If you think the stories, myths, and claims of the ancient Sanskrit chronicles are nothing more than children's fairy tales? After nearly a thousand years of technical development, the two most advanced nations in the modern world combined their efforts to develop a Vertical-Take-Off/Landing vehicle using the so-called "thrust vectoring" technique similar to that utilized a thousand years ago in India.

Historical Proof of Hinduism being the Oldest Religion

Posted by dimodi on August 7, 2012 at 6:45 AM Comments comments (2)

 

 

कृपया ध्यान दे कि ये सुरेश चिप्लूनकर जी के ब्लॉग से लेकर एडिट किया गया है, अवम हम इसे आपके सामने केवल एक तथ्य के रुप में रख आरएचई है जिस पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करने के लिए आप सब मुकत हैं |

 

हिंदू धर्म के विश्व के सबसे पुरातन पूर्ण विकसित अवम वैज्ञानिक संस्क्रुती होने को ये शाक्श्य सिद्ध करते है.

(भाग…1 से आगे जारी…

 

उन दिनों काबा में प्रतिवर्ष आयोजित होने वाला “ओकाज़” सिर्फ़ एक मेला या आनंदोत्सव नहीं था, बल्कि यह एक मंच था जहाँ विश्व के कोने-कोने से विद्वान आकर समूचे अरब में फ़ैली वैदिक संस्कृति द्वारा उत्पन्न सामाजिक, धार्मिक, राजनैतिक, शैक्षणिक पहलुओं पर खुली चर्चा करते थे। “सायर-उल-ओकुल” का निष्कर्ष है कि इन चर्चाओं और निर्णयों को समूचे अरब जगत में सम्मान और सहमति प्राप्त होती थी। अतः एक प्रकार से मक्का, भारत के वाराणसी की तर्ज पर विद्वानों के बीच अतिमहत्वपूर्ण बहसों के केन्द्र के रूप में उभरा, जहाँ भक्तगण एकत्रित होकरपरम-आध्यात्मिक सुख और आशीर्वाद लेते थे। वाराणसी और मक्का दोनों ही जगहों पर इन चर्चाओं और आध्यात्म का केन्द्र निश्चित रूप से शिव का मन्दिर रहा होगा। यहाँ तक कि आज भी मक्का के काबा मेंप्राचीन शिवलिंग के चिन्हदेखे जा सकते हैं। ऐसा प्रतीत होता है कि काबा में प्रत्येक मुस्लिम जिसकाले पत्थर को छूते और चूमते हैं वह शिवलिंग ही है। हालांकि अरबी परम्पराने अब काबा के शिव मन्दिर की स्थापना के चिन्हों को मिटा दिया है, लेकिन इसकी खोज विक्रमादित्य के उन शिलालेखों से लगाई जा सकती है जिनका उल्लेख “सायर-उल-ओकुल” में है। जैसा कि सभी जानते हैं राजा विक्रमादित्य शिव केपरम भक्त थे, उज्जैन एक समयविक्रमादित्य के शासनकाल में राजधानी रही, जहाँ कि सबसे बड़े शिवलिंग महाकालेश्वर विराजमान हैं। ऐसे में जब विक्रमादित्य का शासनकाल और क्षेत्र अरब देशों तक फ़ैला था, तब क्या मक्का जैसी पवित्र जगह पर उन्होंने शिव का पुरातन मन्दिर स्थापित नहीं किया होगा ?

 

अब हम पश्चिम एशिया और काबा में भारतीय और हिन्दू संस्कारों, संस्कृति से मिलती-जुलती परम्पराओं, प्रतीकों और शैलियों को हम एक के बाद एकदेखते जाते हैं |

 

मक्का शहर से कुछ मील दूर एक साइनबोर्ड पर स्पष्ट उल्लेख है कि “इस इलाके में गैर-मुस्लिमों का आना प्रतिबन्धित है…”। यह काबा के उन दिनों की याद ताज़ा करता है, जब नये-नये आये इस्लाम ने इस इलाके पर अपना कब्जा कर लिया था। इस इलाके में गैर-मुस्लिमों का प्रवेश इसीलिये प्रतिबन्धित किया गया है, ताकि इस कब्जे के निशानों को छिपाया जा सके। जैसे-जैसे इस्लामी श्रद्धालु काबा की ओर बढ़ता है, उस भक्त को अपना सिर मुंडाने और दाढ़ी साफ़ कराने को कहा जाता है। इसके बाद वह सिर्फ़ “बिना सिले हुए दो सफ़ेद कपड़े” लपेट कर ही आगे बढ़ सकता है।जिसमें से एक कमर पर लपेटा जाता है व दूसरा कंधे पर रखा जाता है। यह दोनों ही संस्कार प्राचीन काल से हिन्दू मन्दिरों को स्वच्छ और पवित्र रखने हेतु वैदिक अभ्यास के तरीके हैं, यह मुस्लिम परम्परा में कब से आये, जबकि मुस्लिम परम्परा मेंदाढ़ी साफ़ करने को तो गैर-इस्लामिक बताया गया है? मक्का की मुख्य प्रतीकदरगाह जिसे काबा कहा जाता है, उसे एक बड़े से काले कपड़े से ढँका गया है। यह प्रथा भी “मूल प्रतीक” पर ध्यान न जाने देने के लिये एक छद्म-आवरण के रूप में उन्हीं दिनों से प्रारम्भकी गई होगी, वरना उसे इस तरह काले कपड़े में ढँकने की क्या आवश्यकता है?

 

“इनसाइक्लोपीडिया ब्रिटानिका” के अनुसार काबा में 360 मूर्तियाँ थीं। पारम्परिक अरबी आलेखों में उल्लेख है कि जब एक भीषण तूफ़ान से 360 मूर्तियाँ नष्ट हो गईं, तब भी शनि, चन्द्रमा और एक अन्य मूर्ति को प्रकृति द्वारा खण्डित नहीं किया जा सका। यह दर्शाता है कि काबा में स्थापित उस विशाल शिव मन्दिर के साथ अरब लोगों द्वारा नवग्रह की पूजा की जाती थी। भारत में आज भी नवग्रह पूजा की परम्परा जारी है और इसमें से दो मुख्य ग्रह हैं शनि और चन्द्रमा। भारतीय संस्कृति और परम्परा में भी चन्द्रमा को हमेशा शिव के माथे पर विराजित बताया गया है, और इस बात की पूरी सम्भावना है कि यह चन्द्रमा “काबा” के रास्ते इस्लाम ने, उनके झण्डे में अपनाया हो।

 

काबा से जुड़ी एक और हिन्दू संस्कृति परम्परा है “पवित्र गंगा” की अवधारणा। जैसा कि सभी जानते हैं भारतीय संस्कृति में शिव के साथ गंगा और चन्द्रमा के रिश्ते को कभी अलग नहीं किया जा सकता। जहाँ भी शिव होंगे, पवित्र गंगा की अवधारणा निश्चित ही मौजूदहोती है। काबा के पास भी एकपवित्र झरना पाया जाता है, इसका पानी भी पवित्र माना जाता है, क्योंकि इस्लामिक काल से पहले भी इसे पवित्र (आबे ज़म-ज़म ही माना जाता था। आज भी मुस्लिम श्रद्धालु हज के दौरान इस आबे ज़मज़म को अपने साथ बोतल में भरकर ले जाते हैं। ऐसा क्यों है कि कुम्भ में शामिल होने वाले हिन्दुओं द्वारा गंगाजल को पवित्र मानने और उसे बोतलों में भरकर घरों में ले जाने, तथा इसी प्रकार हज की इस परम्परा में इतनी समानता है? इसके पीछे क्या कारण है।

 

काबा में मुस्लिम श्रद्धालु उस पवित्र जगह की सात बार परिक्रमा करते हैं, दुनिया की किसी भी मस्जिद में “परिक्रमा” की कोई परम्परा नहीं है, ऐसा क्यों? हिन्दू संस्कृति में प्रत्येक मन्दिर में मूर्ति की परिक्रमा करने की परम्परा सदियों पुरानीहै। क्या काबा में यह “परिक्रमा परम्परा” पुरातन शिव मन्दिर होने के काल से चली आ रही है? अन्तर सिर्फ़ इतना है कि मुस्लिम श्रद्धालु ये परिक्रमा उल्टी ओर (Anticlockwise) करते हैं, जबकि हिन्दू भक्त सीधी तरफ़ यानी Clockwise। लेकिन हो सकता है कि यह बारीक सा अन्तर इस्लाम के आगमन के बाद किया गया हो, जिस प्रकार उर्दू भी दांये से बांये लिखी जाती है, उसी तर्ज पर। “सात” परिक्रमाओं की परम्परा संस्कृत में “सप्तपदी” के नाम से जानी जाती है, जो कि हिन्दुओं में पवित्र विवाह के दौरान अग्नि के चारों तरफ़ लिये जाते हैं। “मखा” का मतलब होता है “अग्नि”, और पश्चिम एशिया स्थित “मक्का” में अग्नि के सात फ़ेरे लिया जाना किस संस्कृति की ओर इशारा करता है?

 

यह बात तो पहले से ही स्थापित है और लगभग सभी विद्वान इस पर एकमत हैं कि विश्व की सबसे प्राचीन भाषा पाली, प्राकृत और संस्कृत हैं। कुर-आन का एकपद्य “यजुर्वेद” के एक छन्द का हूबहू अनुवाद है, यह बिन्दु विख्यात इतिहासशोधक पण्डित सातवलेकर ने अपने एक लेख में दर्शाया है। एक और विद्वान ने निम्नलिखित व्याख्या और उसकी शिक्षा को कुरान में और केन उपनिषद के 1.7 श्लोक में एक जैसा पाया है।

 

कुरान में उल्लेख इस प्रकार है -

 

“दृष्टि उसे महसूस नहीं करसकती, लेकिन वह मनुष्य की दृष्टि को महसूस कर सकता है, वह सभी रहस्यों को जानता है और उनसे परिचित है…”

 

केन उपनिषद में इस प्रकार है -

 

“वह” आँखों से नहीं देखा जासकता, लेकिन उसके जरिये आँखें बहुत कुछ देखती हैं, वह भगवान है या कुछ और जिसकी इस प्रकट दुनिया में हम पूजा करते हैं…”

 

इसका सरल सा मतलब है कि : भगवान एक है और वह किसी भी सांसारिक या ऐन्द्रिय अनुभव से परे है।

 

इस्लाम के अस्तित्व में आने के 1300 वर्ष हो जाने केबावजूद कई हिन्दू संस्कार, परम्परायें और विधियाँ आज भी पश्चिम एशिया में विद्यमान हैं। आईये देखते हैं कि कौन-कौनसी हिन्दू परम्परायें इस्लाम में अभी भी मौजूद हैं – हिन्दुओं की मान्यताहै कि 33 करोड़ देवताओं का एक देवकुल होता है, पश्चिम एशिया में भी इस्लाम के आने से पहले 33 भगवानों की पूजा की जाती थी। चन्द्रमा आधारित कैलेण्डर पश्चिम एशिया में हिन्दू शासनकाल के दौरान ही शुरु किया गया। मुस्लिम कैलेण्डर का माह “सफ़र” हिन्दुओं का “अधिक मास” ही है, मुस्लिम माह “रबी” असल में “रवि” (अर्थातसूर्य का अपभ्रंश है (संस्कृत में “व” प्राकृत में कई जगह पर “ब” होता है। मुस्लिम परम्परा “ग्यारहवीं शरीफ़”, और कुछ नहीं हिन्दू “एकादशी” ही है और दोनों का अर्थ भी समान ही है। इस्लाम की परम्परा “बकरीद”, वैदिक कालीन परम्परा “गो-मेध” और “अश्व-मेध” यज्ञ से ली गई है। संस्कृत में “ईद” का अर्थ है पूजा, इस्लाम में विशेष पूजा के दिन को “ईद” कहा गया है। संस्कृत और हिन्दू राशि चक्र में “मेष” का अर्थ मेमना, भेड़, बकरा होता है, प्राचीन काल में जब सूर्य मेष राशि में प्रवेश करता था तब मांस के सेवन की दावत दी जाती थी। इसी परम्परा को आगे बढ़ाते हुए इस्लाम ने इसे “बकरीद” के रूप में स्वीकार किया है (उल्लेखनीय है कि हिन्दी में भी “बकरी” का अर्थ बकरी ही होता है। जिस प्रकार “ईद” का मतलब हैपूजा, उसी प्रकार “गृह” का मतलब है घर, “ईदगृह = ईदगाह= पूजा का घर = पूजास्थल, इसी प्रकार “नमाज़” शब्द भी नम यज्ञ से मिलकर बना है, “नम” अर्थात झुकना, “यज्ञ” अर्थात पूजा, इसलिये नम यज्ञ = नमज्ञ = नमाज़ (पूजा के लिये झुकना। इस्लाम में नमाज़ दिन में 5 बार पढ़ी जाती है जो कि वैदिक “पंचमहायज्ञ” का ही एक रूप है (दैनिक पाँच पूजा – पंचमहायज्ञ जो कि वेदों में सभी व्यक्तियों के लिये दैनिक अनुष्ठान का एक हिस्सा है। वेदों में वर्णन है कि पूजा से पहले, “शरीरं शुद्धयर्थं पंचगंगा न्यासः” अर्थात पूजा से पहले शरीर के पाँचों अंगों को गंगाजल से धोया जाये, इसी प्रकार इस्लाम में नमाज़ से पहले शरीर के पाँचों भागों को स्वच्छ किया जाता है।

 

इस्लाम में “ईद-उल-फ़ितर” भीमनाया जाता है, जिसका मतलब है “पितरों की ईद” या पितरों की पूजा, अर्थात पूर्वजों का स्मरण करना और उनकी पूजा करना, यह सनातन काल से हिन्दू परम्परा का एक अंग रहा है। हिन्दू लोग “पितर-पक्ष” में अपने पूर्वजों की आत्मा की शान्ति के लिये पूजा-हवन करते हैं उन्हें याद करते हैं यही परम्परा इस्लाम में ईद-उल-फ़ितर (पितरों की पूजा के नाम से जानी जाती है। प्रत्येक मुख्य त्योहार और उत्सव के पहले चन्द्रमा की कलायें देखना, चन्द्रोदय और चन्द्रास्त देखना भी हिन्दू संस्कृति से ही लिया गया है, इस्लाम के आनेसे हजारों साल पहले से हिन्दू संकष्टी और विनायकी चतुर्थी पर चन्द्रमा के उदय के आधार पर ही उपवास तोड़ते हैं। यहाँ तक कि “अरब” शब्द भी संस्कृत की ही उत्पत्ति है, इसका मूल शब्द था “अरबस्तान” (प्राकृत में “ब” संस्कृत में “व” बनता हैअतः “अरवस्तान”। संस्कृत में “अरव” का अर्थ होता है “घोड़ा” अर्थात “घोड़ों का प्रदेश = अरवस्तान” (अरबी घोड़े आज भी विश्वप्रसिद्धहैं अपभ्रंश होते-होते अरवस्तान = अरबस्तान = अरबप्रदेश।

 

चन्द्रमा के बारे में विभिन्न नक्षत्रीय तारामंडलों और ब्रह्माण्ड की रचना के बारे में वैदिक विवरण कुरान में भी भाग 1, अध्याय 2, पैराग्राफ़ 113, 114, 115, 158 और 189 तथा अध्याय 9, पैराग्राफ़ 37 व अध्याय 10 पैराग्राफ़ 4 से 7 में वैसा ही दिया गया है। हिन्दुओं की भांति इस्लाम में भी वर्ष के चार महीने पवित्र माने जाते हैं। इस दौरान भक्तगण बुरे कर्मों से बचते हैं और अपने भगवान का ध्यान करते हैं, यह परम्परा भी हिन्दुओं के “चातुर्मास” से ली गई है। “शबे-बारात” शिवरात्रि का ही एक अपभ्रंश है, जैसा कि सिद्ध करने की कोशिश है कि काबा में एक विशाल शिव मन्दिर था, तत्कालीन लोग शिव की पूजा करते थे और शिवरात्रि मनाते थे, शिव विवाह के इस पर्व को इस्लाम में “शब-ए-बारात” कास्वरूप प्राप्त हुआ।

 

ब्रिटैनिका इनसाइक्लोपीडिया के अनुसार काबा की दीवारों पर कई शिलालेख और स्क्रिप्ट मौजूद हैं, लेकिन किसी को भी उनका अध्ययन करने की अनुमति नहीं दी जाती है, एक अमेरिकन इतिहासकार ने इस सम्बन्ध में पत्र व्यवहारकिया था, लेकिन उसे भी मना कर दिया गया। लेकिन प्रत्यक्ष देखने वालों कामानना है कि उसमें से कुछ शिलालेख संस्कृत, पाली या प्राकृत भाषा में हो सकते हैं। जब तक उनका अध्ययन नहीं किया जायेगा, विस्तार से इस सम्बन्ध में कुछ और बता पाना मुश्किल है।

Historical Proof of Hinduism being the Oldest Religion

Posted by dimodi on August 7, 2012 at 5:40 AM Comments comments (1)

 

भाग 1: -

 

कृपया ध्यान दे कि ये सुरेश चिप्लूनकर जी के ब्लॉग से लेकर एडिट किया गया है, अवाम हम इसे आपके सामने केवल एक तथ्य के रुप में रख आरएचई है जिस पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करने के लिए आप सब मुकत हैं |

 

हाल ही में एक सेमिनार में प्रख्यात लेखिका कुसुमलता केडियाने विभिन्न पश्चिमी पुस्तकों और शोधों के हवाले से यह तर्कसिद्ध किया कि विश्व की प्राचीनतम सभ्यताओं में बहुत गहरे अन्तर्सम्बन्ध रहे हैं। पुस्तक"फ़िंगरप्रिंट्स ऑफ़ द गॉड - लेखक ग्राहम हैन्नोक" तथा एक अन्य पुस्तक "1434" (लेखक- गेविन मेनजीस का"रेफ़रेंस" देते हुए उन्होंने बताया कि पश्चिमके शोधकर्ताओं को"सभ्यताओं" सम्बन्धी खोज करते समय अंटार्कटिका क्षेत्र के नक्शे भी प्राप्त हुए हैं, जो कि बेहद कुशलता से तैयार किये गये थे, इसी प्रकार कईबेहद प्राचीन नक्शों में कहीं-कहीं चीन को"वृहत्तरभारत" का हिस्सा भी चित्रित किया गया है। अब इस सम्बन्ध में पश्चिमी लेखकों और शोधकर्ताओं मेंआम सहमति बनती जा रही है किपृथ्वी पर मानव का अस्तित्व 12,000 वर्ष से भी पुराना है, और उस समय की कई सभ्यताएं पूर्ण विकसित थीं।

 

केडिया जी ने कहा है कि विश्व का इतिहास जो हमें पढ़ाया जाता है या बताया जाता है अथवा दर्शाया जाता है, वह असल में ईसा पूर्व 4000 वर्ष का ही कालखण्ड है और Pre-Christianity काल को ही विश्व का इतिहास मानता है। लेकिन जब आर्कियोलॉजिस्ट और प्रागैतिहासिक काल के शोधकर्ता इस 4000 वर्ष से और पीछे जाकर खोजबीनकरते हैं तब उन्हें कई आश्चर्यजनक बातें पता चलती हैं।

 

पीएन ओक ने अपने एक विस्तृत लेख में इस बात पर बिन्दुवार चर्चा की है। पीएन ओक पहले सेना में कार्यरतथे और सेना की नौकरी छोड़कर उन्होंने प्राचीन भारत के इतिहास पर शोध किया और विभिन्न देशों में घूम-घूम कर कई प्रकार के लेख, शिलालेखों के नमूने, ताड़पत्र आदि का अध्ययन किया। पीएन ओक की मृत्युसे कुछ ही समय पहले की बात है, कुवैतमें एक गहरी खुदाई के दौरान कांसे की स्वर्णजड़ित गणेशकी मूर्ति प्राप्त हुई थी। कुवैत के उस मुस्लिम रहवासी ने उस मूर्ति को लेकर कौतूहल जताया था तथा इतिहासकारों से हिन्दू सभ्यता और अरब सभ्यता के बीच क्या अन्तर्सम्बन्ध हैं यह स्पष्ट करने का आग्रह किया था।

 

जब पीएन ओक ने इस सम्बन्ध में गहराई से छानबीन करने का निश्चय किया तो उन्हें कई चौंकाने वाली जानकारियाँ मिली। तुर्की के इस्ताम्बुल शहर की प्रसिद्ध लायब्रेरी मकतब-ए-सुल्तानिया में एक ऐतिहासिक ग्रन्थ है “सायर-उल-ओकुल”, उसके पेज 315 पर राजा विक्रमादित्य से सम्बन्धित एक शिलालेख का उल्लेख है , जिसमें कहा गयाहै कि “…वे लोग भाग्यशाली हैं जो उस समय जन्मे और राजा विक्रम के राज्य में जीवन व्यतीत किया, वह बहुत ही दयालु, उदार और कर्तव्यनिष्ठ शासक था जो हरे व्यक्ति के कल्याण के बारे में सोचता था। लेकिन हम अरब लोग भगवान से बेखबर अपने कामुक और इन्द्रिय आनन्द में खोये हुए थे, बड़ेपैमाने पर अत्याचार करते थे, अज्ञानता का अंधकार हमारे चारों तरफ़ छाया हुआ था। जिस तरह एक भेड़ अपने जीवन के लिये भेड़िये से संघर्ष करती है, उसी प्रकार हम अरब लोग अज्ञानता सेसंघर्षरत थे, चारों ओर गहन अंधकार था। लेकिन विदेशी होने के बावजूद, शिक्षा की उजाले भरी सुबह के जो दर्शन हमें राजा विक्रमादित्य ने करवाये वे क्षण अविस्मरणीय थे। उसने अपनेपवित्र धर्म को हमारे बीच फ़ैलाया, अपने देश के सूर्य से भी तेज विद्वानों को इस देश में भेजा ताकि शिक्षा का उजाला फ़ैल सके। इन विद्वानों और ज्ञाताओं नेहमें भगवान की उपस्थिति और सत्य के सही मार्ग के बारे में बताकर एक परोपकार किया है। ये तमाम विद्वान,राजा विक्रमादित्य के निर्देश पर अपने धर्म की शिक्षा देने यहाँ आये…”।

 

उस शिलालेख के अरेबिक शब्दों का रोमन लिपि में उल्लेख यहाँ किया जाना आवश्यक है…उस स्र्किप्ट के अनुसार, “…इट्राशाफ़ई सन्तु इबिक्रामतुल फ़ाहालामीन करीमुन यात्राफ़ीहा वायोसास्सारु बिहिल्लाहाया समाइनि एला मोताकाब्बेरेन सिहिल्लाहा युही किद मिन होवा यापाखारा फाज्जल असारी नाहोने ओसिरोम बायिआय्हालम। युन्दान ब्लाबिन कज़ान ब्लानाया सादुन्या कानातेफ़ नेतेफ़ि बेजेहालिन्। अतादारि बिलामासा-रतीन फ़ाकेफ़तासाबुहु कौन्निएज़ा माज़ेकाराल्हादा वालादोर। अश्मिमान बुरुकन्कद तोलुहो वातासारु हिहिला याकाजिबाय्माना बालाय कुल्क अमारेना फानेया जौनाबिलामारि बिक्रामातुम…” (पेज 315 साया-उल-ओकुल, जिसका मतलब होता है “यादगार शब्द”। एकअरब लायब्रेरी में इस शिलालेख के उल्लेख से स्पष्ट है किविक्रमादित्य का शासन या पहुँच अरब प्रायद्वीप तक निश्चित ही थी।

 

उपरिलिखित शिलालेख का गहनअध्ययन करने पर कुछ बातें स्वतः ही स्पष्टहोती हैं जैसे कि प्राचीन काल में विक्रमादित्य का साम्राज्य अरब देशों तक फ़ैला हुआ था और विक्रमादित्य ही वह पहला राजा था जिसने अरब में अपना परचम फ़हराया, क्योंकि उल्लिखित शिलालेख कहता है कि “राजा विक्रमादित्य ने हमें अज्ञान के अंधेरे से बाहर निकाला…”अर्थात उस समय जोभी उनका धर्म या विश्वास था, उसकी बजाय विक्रमादित्य के भेजे हुएविद्वानों ने वैदिक जीवन पद्धति का प्रचार तत्कालीन अरब देशों में किया। अरबों के लिये भारतीय कला और विज्ञान की सीख भारतीय संस्कृति द्वारा स्थापित स्कूलों, अकादमियों और विभिन्न सांस्कृतिक केन्द्रों के द्वारा मिली।

 

अथवा, दूसरा तथ्य यह कि कुतुब-मीनार के पास स्थित नगर “महरौली”, इस महरौली कानाम विक्रमादित्य के दरबार में प्रसिद्ध गणित ज्योतिषी मिहिरा के नाम पर रखा गयाहै। “महरौली” शब्द संस्कृत के शब्द “मिहिरा-अवली” से निकला हुआ है, जिसका अर्थ है “मिहिरा” एवं उसके सहायकों के लिये बनाये गये मकानों की श्रृंखला। इस प्रसिद्ध गणित ज्योतिषी को तारों और ग्रहों के अध्ययन के लिये इस टावर का निर्माणकरवाया गया हो सकता है, जिसे कुतुब मीनार कहा जाता है।

 

अपनी खोज को दूर तक पहुँचाने के लिये अरब में मिले विक्रमादित्य के उल्लेख वाले शिलालेख के निहितार्थ को मिलाया जायेतो उस कहानी के बिखरे टुकड़े जोड़ने में मदद मिलती है कि आखिर यह शिलालेख मक्का के काबा में कैसे आया और टिका रहा? ऐसे कौन से अन्य सबूत हैंजिनसे यह पता चल सके कि एक कालखण्ड में अरब देश, भारतीय वैदिक संस्कृति केअनुयायी थे? और वह शान्ति और शिक्षा अरब में विक्रमादित्य के विद्बानों के साथ ही आई, जिसका उल्लेख शिलालेख में“अज्ञानता और उथलपुथल” के रूप में वर्णित है? इस्ताम्बुल स्थित प्रसिद्ध लायब्रेरी मखतब-ए-सुल्तानिया, जिसकी ख्याति पश्चिम एशिया के सबसे बड़े प्राचीन इतिहास और साहित्य का संग्रहालय के रूप में है। लायब्रेरी के अरेबिक खण्ड में प्राचीन अरबी कविताओं का भी विशाल संग्रह है। यह संकलन तुर्की के शासक सुल्तान सलीम के आदेशों केतहत शुरु किया गया था। उस ग्रन्थ के भाग “हरीर” परलिखे हुए हैं जो कि एक प्रकार का रेशमी कपड़ा है। प्रत्येक पृष्ठ को एक सजावटी बॉर्डर से सजाया गया है। यही संकलन“साया-उल-ओकुल” के नाम से जाना जाता है जो कि तीन खण्डों में विभाजित किया गया है। इस संकलन के पहले भाग में पूर्व-इस्लामिक अरब काल के कवियों का जीवन वर्णन और उनकी काव्य रचनाओं को संकलित किया गया है। दूसरे भाग में उन कवियों के बारे में वर्णन है जो पैगम्बर मुहम्मद के काल में रहे और कवियों की यह श्रृंखला बनी-उम-मय्या राजवंश तक चलती है। तीसरे भाग में इसके बाद खलीफ़ा हारुन-अल-रशीद के काल तक के कवियों को संकलित किया गया है। इस संग्रह का सम्पादन और संकलन तैयार किया है अबू आमिर असामाई ने जो कि हारुन-अल-रशीद के दरबार में एक भाट था। “साया-उल-ओकुल” का सबसे पहला आधुनिक संस्करण बर्लिन में 1864 में प्रकाशित हुआ, इसके बाद एक और संस्करण 1932 में बेरूत से प्रकाशित किया गया।

 

यह संग्रह प्राचीन अरबी कविताओं का सबसे आधिकारिक, सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण संकलन माना जाता है। यह प्राचीन अरब जीवन के सामाजिक पहलू, प्रथाओं, परम्पराओं, तरीकों, मनोरंजन के तरीकों आदि पर पर्याप्त प्रकाश डालता है। इस प्राचीन पुस्तक में प्रतिवर्ष मक्का में आयोजित होने वाले समागम जिसे “ओकाज़” के नाम से जानाजाता है, और जो कि काबा के चारों ओर आयोजित किया जाता है, के बारे में विस्तार से जानकारियाँ दीगई हैं। काबा में वार्षिक “मेले” (जिसे आज हज कहा जाता है की प्रक्रिया इस्लामिक काल से पहले ही मौजूद थी, यह बात इस पुस्तकको सूक्ष्मता से देखने पर साफ़ पता चल जाती है।

What is Hinduism

Posted by dimodi on August 3, 2012 at 4:55 AM Comments comments (0)

 

Hinduism is not just a Religion in today’s definition of a Religion.

 

“Hindu refers to an identity associated with the philosophical, religious and cultural systems that are indigenous to the Indian subcontinent.

 

As used in the Constitution of India, the word "Hindu" is attributed to all persons professing any Indian religion (i.e. Hinduism, Jainism, Buddhism or Sikhism).